muharram

Muharram | ताजिया क्यों मनाया जाता है?

Spread the love

हेल्लो दोस्तों! Hindi Funny Joke में आपका स्वागत है। इस्लाम धर्म में मुहर्रम रमजान के बाद दूसरा सबसे पवित्र महीना माना जाता है। मुहर्रम के पहले दिन को हिजरी या अरबी नव वर्ष कहा जाता है और दसवें दिन को अशुरा के नाम से जानते हैं।

महीने के दसवें दिन यानि अशुरा को शिया मुसलमानों द्वारा कर्बला में पैगम्बर मुहम्मद के पोते इब्न अली की शहादत की याद में शोक मनाया जाता है। इस दिन शिया समुदाय को अशुरा पर हुए नरसंहार की याद आती है जब इमाम हुसैन को कर्बला की लड़ाई में सिर कलम करने की बात कही गयी थी। इमाम हुसैन और उनके चाहने वाले साथियों की याद में दुनिया भर में शिया मुस्लिम खुद को तकलीफ देकर इस Muharram के दिन मातम मानते हैं।

आज हम आपके लिए अशुरा के अवसर पर अपने प्रियजनों के साथ शेयर करने के लिए कुछ कोट्स, स्टेटस, और इमेजेज लेकर आये हैं। हमें आशा है कि आपको ये पसंद आएंगे।

अल्लाह से हमारी यही दुआ है कि

वह दुनिया भर में ढेर सारी

खुशियां, शांति और समृद्धि लाएं।

अल्लाह हमारी रक्षा करें

आइये हम अल्लाह के रसूल पर विश्वास करें

और उस प्रकाश का अनुसरण करें जो

उसके साथ उतारा गया है।

आप सभी पर अल्लाह मिया की दया रहे।

किसी और के करीब आने से पहले

आप अल्लाह के करीब हो जाओ  क्योंकि।

इंसान के बिना अल्लाह तो हमेशा अल्लाह ही रहेगा।

लेकिन अल्लाह के बिना इंसान कुछ भी नहीं रहेगा।

मुहर्रम महीने के इस अशुरा दिवस पर

मैं सभी की भलाई के लिए दुआ भेज रहा हूँ।

अल्लाह आप पर प्यार, बहादुरी, ज्ञान, संतोष,

धैर्य और स्वस्थता के तोहफों की बौछार करे।

मैं दुआ करता हूँ कि यह नव वर्ष आपके

जीवन में खुशियां, स्वास्थ्य और समृद्धि लाये।

आपको मुहर्रम मुबारक

दूसरों की बातों से कभी प्रभावित न हों।

खुद पर और अल्लाह पर भरोसा रखो।

मुहर्रम मुबारक

मुहर्रम वह त्यौहार है जो हम सभी को हमेशा शांति

और ख़ुशी को गले लगाने और भाईचारे और

एकजुटता का सन्देश फ़ैलाने की याद दिलाता है। 

मुहर्रम मुबारक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *